Wednesday, July 14, 2010

इक पत्र जो मैंने कभी अपने इक साथी को लिखा था.

अक्सर नुक्कड़ों ,दुकानों पर राजनीती की चर्चा सुनी होगी . ये भी सुना होगा और शायद महसूस भी किया हो की हमारा सिस्टम ख़राब है . आज के स्टुडेंट तो चर्चा भी नहीं करना चाहते लेकिन अगर सिस्टम ख़राब है उसमें फोल्ट हैं तो उसको कोई दूर क्यों नहीं करना चाहता। बरसों से मैं भगत संघ के विचार पढता रहा हूँ लिटरेचर से भी गहरा लगाओ रहा .

सो एक दिन मन में ख्याल आया "ग्लोबल केयर ओर्गेनैज़सन " को लेकर जिसकी जमीं हमने भगत सिंह के विचारों को लेकर रखी और उसको आगे बढ़ाने की कोशिश की ये कोई सामाजिक संस्था नहीं है ये एक इन्कलाबी संगठन है जिसके लिए जुनूनी लोगों की जरुरत है जो बदलाव चाहते हैं ,कुछ कर गुजरना चाहते हैं पहले मैंने इसको ग्लोबली बनाने की कोशिश की मेरी विभिन्न देशों में बात हुई मगर मैं नाकामयाब रहा शायद लोगों को मेरे विचारों के जूनून का अंदाजा नहीं हुआ मगर आज आपको पाकर फ़िर से वो लौ दिखाई दी है .जब मैं मेरठ में था तो मैंने इसको नेशनल लेवल पर बनाकर हकीकत का जामा पहनाया।

तब मैंने इसकी मेरठ ,इलाहबाद ,मुम्बई, हैदराबाद ,पटना में ब्रांच बनाईं अलग अलग जगह से ८ लोगों कमेटी बनाई जिसका मैं चेयरपर्सन रहा। इसमें मैंने आम पत्र प्रकाशित कर लोगों में बटवाने चाहे जो आन्दोलन का पहला पत्र था साथ में भेज रहा हूँ पढ़ना जरुर उसे मैंने जेलों में जाकर भी वो बाँटने चाहे लेकिन नहीं हो पाया .फरहान कम कोई बड़ा नहीं होता, हम लोग उसे बना देते हैं पेंटिंग करके जब कोई अदोल्फ़ हिटलर बन सकता है तो हम लोग दुनिया क्यों नहीं जीत सकते . मैं तुम्हें जी. सी. ओ. में नेशनल लेवल पर रखना चाहूँगा.

कानपुर में तुम कमेटी बनाना. आओ दोस्त! बढ़ो मंजिल की तरफ़ ! तुम्हारी मंजिल तुम्हें आवाज़ दे रही है देखो यहाँ -यहाँ -यहाँ !!! बस एक बार हौसला बनाओ अभी कुछ नहीं खोया सब कुछ तुम्हारा है. अभी मैं इसमें जन समूह इकठ्ठा कर रहा हूँ जब हम लोगों के पीछे एक लंबा काफिला होगा तो जो.सी.ओ. एक सफल ओर्गेनायीज़ेसन।
http://www.globalcareorganization.blogspot.com

- मुहम्मद शाहिद मंसूरी "अजनबी"

No comments:

Post a Comment