Sunday, June 5, 2011

रुंधे हुए गले का जवाब


अपने गुज़रे हुए कल को सोचते- सोचते ऐसी जगह पहुँच गया जहाँ एक नज़्म नमूदार हो गयी। आज वही नज़्म आपके हाथों में सोंप रहा हूँ. आपके प्यार का इंतजार रहेगा -

तंगहाली की वो आइसक्रीम
चन्द
रुपयों के वो तरबूज
किसी गली के नुक्कड़ की वो चाट
सुबह
- सुबह
पूड़ी
और जलेबी की तेरी फरमाइशमुझे आज भी याद है
कैसे
भूल जाऊं
अम्मी से पहली मुलाकात
और मेरी इज्ज़त रखने के लिएपहले से खरीदा गया तोहफामेरे हाथों में थमाना
ये कहते हुए किअम्मी को दे देनाकैसे भूल जाऊं

वो
नेकियों वाली
शबे
बरात कि अजीमुश्शान रातकहते हैं
हर
दुआ क़ुबूल होती है उस रात
मुहब्बत से मामूर दिल
और
बारगाहे इलाही मेंउट्ठे हुए हाथ
हिफाजते
मुहब्बत के लिएकैसे भूल जाऊं

कैसे
भूल जाऊंवो पाक माहे रमज़ानसुबह सादिक का वक़्त
खुद के वक़्त की परवाह किये बगैर
सहरी के लिए मुझको जगाना
दिन भर के इंतज़ार के बाद
वो मुबारक वक्ते अफ्तारी
हर रोज मिरे लिए कुछ मीठा भेजना
कैसे भूल जाऊं

मेरा
वक़्त- बे- वक़्त डांटना
क्यूँ
भेजा था तुमने
कल
से मत भेजना
और वहां से-
वही
मखमली आवाज़ में
रुंधे हुए गले का जवाबहो सकता है
ये
आखिरी अफ्तारी हो
खा लो शाहिद
मेरे हाथों की बनी हुयी चीजें
जाने
कब ये पराये हो जाएँ
कैसे भूल जाऊं.......

- मुहम्मद शाहिद मंसूरी 'अजनबी"

27 comments:

  1. bhulna bhi nahi chahiye. khubsurat rachna. aabhar.

    ReplyDelete
  2. वाकई, कोई कैसे भूल सकता है...बढ़िया.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर बयान है , लिखते रहियेगा !

    ReplyDelete
  4. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 07- 06 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच --- चर्चामंच

    ReplyDelete
  5. ये सब भूलना आसान नहीं है , और भूलना भी क्यों ....
    खूबसूरत एहसास !

    ReplyDelete
  6. ये सब भूलने के लिए थोड़ी न होती हैं...

    मन को छूने वाली सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  7. स्मरण योग्य भावाभिव्यक्ति......

    ReplyDelete
  8. सुंदर एहसासों का ताना -बाना है आपकी नज़्म .....
    शब्दों का माधुर्य आकर्षित करता है .....

    ReplyDelete
  9. भिक्षाटन करता फिरे, परहित चर्चाकार |
    इक रचना पाई इधर, धन्य हुआ आभार ||

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  10. bhut achche ahsaas se labrej prastuti dil ko choo gai.shubhkamnayen.

    ReplyDelete
  11. apne blog par bhi aamantrit karti hoon.

    ReplyDelete
  12. बेशकीमती एहसासों को पिरोया है, अजनबी भाई...
    सादर शुभकामनाये

    ReplyDelete
  13. खूबसूरत अहसासों को पिरोती हुई एक सुंदर रचना. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  14. माँ के प्यार को जो भूल गया ओ इंसान क्या दरिंदा भी नहीं है .बहुत भावक कृति .जिसके माँ नहीं है वही समझ सकता है.

    ReplyDelete
  15. अंतस से निकले आपके जज़्बात काबिले तारीफ़ है .लिखते रहिये .शब्द शिल्प अपने आप आ jayega .

    ReplyDelete
  16. REALLY A VERY GR8 THOUGHT SIR,,,,,, VERY GUD WORK SIR... PLZ KEEP IT ON SIR!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  17. Overwhelming...very heart-touching thoughts u owe...

    ReplyDelete
  18. एहसास जी
    उड़न तश्तरी जी
    सतीश जी
    संगीता जी
    वाणी जी
    रंजना जी
    निवेदिता जी
    हरकीरत जी
    रविकर जी
    राजेश कुमारी जी
    हबीब जी
    गाफ़िल साहब
    डोरोथी जी
    विजय जी
    ज़ाकिर साहब
    अमृतेश
    और प्रियंका
    आप सब का बहुत बहुत शुक्रिया...

    ReplyDelete
  19. AAPNE REALLY BHUT HI ACCHA LIKHA HAI SIR.......... TO PHIR SHUKRIYA KI BILKUL B JRURAT NI HAI SIR.......... THANX 2 U THAT U HV WRITTEN THIS 4 ALL OF US,,,,,,,,,, SO THANX SO MUCH SIR........

    ReplyDelete
  20. अम्मी से पहली मुलाकात
    और मेरी इज्ज़त रखने के लिए
    पहले से खरीदा गया तोहफा
    मेरे हाथों में थमाना
    ये कहते हुए कि
    अम्मी को दे देना
    कैसे भूल जाऊं
    .....बीते लम्हों का सुन्दर भावपूर्ण चित्रण ..
    बहुत बढ़िया रचना .... बधाई

    ReplyDelete
  21. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete